Thursday, 12 April 2012

tumhare bin

 तुम शब्द हो ,
 जो मेरे  भावों  को व्यक्त करते हो 
 तुम्हारे बिन 
 मैं अव्यक्त रह जाती हूँ .
 तुम सुगंध हो 
जो बसती  है मेरी देह में
जगाती है तृष्णा 
तुम्हारे बिन 
मै रसहीन हो जाती हूँ.
तुम रंग हो मेरे जीवन में 
फूलों की तरह ,भांति -भांति के, 
तुम्हारे बिन मैं 
रंगहीन हो जाती हूँ .
मेरे प्रिय ,
तुम श्वांस हो मेरी ,
तुम्हारे बिन 
मैं निर्जीव हो जाती हूँ .
   @kanchan

3 comments:

  1. apratim ...........
    bahut sundar abhivyakti
    -
    -
    aabhaar !!!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर और मृदु भावों की कविता है कंचन.....

    तुम्हारे बिन
    मैं अव्यक्त रह जाती हूँ .
    तुम सुगंध हो
    जो बसती है मेरी देह में
    जगाती है तृष्णा
    तुम्हारे बिन
    मै रसहीन हो जाती हूँ.

    ReplyDelete
  3. prem bina jivan sach mein nirjeev hota hai...bahut sundar hai didi

    ReplyDelete